भा नौ पो द्रोणाचार्य ने कोच्चि एरिया पुलिंग रेगाटा जीता

भा नौ पो द्रोणाचार्य ने कोच्चि एरिया पुलिंग रेगाटा जीता

31 जनवरी, 2019 को अर्नाकुलम चैनल में दक्षिणी नौसेना कमान के कोच्चि एरिया पुलिंग रेगाटा 2019 का संचालन किया गया। उत्साहजनक प्रतियोगिता में, भा नौ पो द्रोणाचार्य के दल ने समग्र रूप से रेगाटा ट्रॉफी जीती, जबकि उपविजेता का स्थान एंटी-सबमरीन वारफेयर स्कूल एंड डाइविंग स्कूल ने प्राप्त किया। रेगाटा के दौरान रेस का संचालन पारंपरिक पुलिंग 'व्हेलर' में और जूनियर नाविकों, सीनियर नाविकों, अधिकारियों और सर्वश्रेष्ठ व्हेलर नामक चार अलग-अलग श्रेणियों में संचालित किया गया। नौकाओं को अर्नाकुलम चैनल में 1.6 किमी की दूरी तय करनी था, जो वेंदुरूथी-विक्रांत ब्रिज से शुरू होकर नौसेना की उत्तरी जेट्टी पर खत्म हुई। कोच्चि स्थित एसएनसी की सभी प्रमुख यूनिट से बने छह दलों ने रेगाटा में भाग लिया।

इस अवसर के मुख्य अतिथि वाइस एडमिरल एके चावला, एवीएसएम, एनएम, वीएसएम, फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, दक्षिणी नौसेना कमान थे और उन्होंने विजेताओं और उपविजेताओं को पुरस्कार दिया। सी-इन-सी ने कोच्चि एरिया स्पोर्ट्स चैम्पियनशिप 2018-19 के समग्र रूप से विजेता बनने वाले एंटी-सबमरीन वारफेयर स्कूल और डाइविंग स्कूल को गोदावरी ट्रॉफी भी दी।

बोट पुलिंग रेगाटा नौसेना में संचालित की जाने वाले सबसे प्रतिष्ठित और पारंपरिक नौसेना खेल गतिविधियों में से एक है। रेगाटा में उपयोग की जाने वाली नौकाएं 27 फीट लंबी 'व्हेलर' हैं, जो एक प्रकार की समुद्री नौका होती हैं और प्रत्येक में चालक दल के रूप में पांच 'पुलर' (खेनेवाले) और एक कॉक्सस्वैन (पतवार चलाने वाले) होते हैं। नौकाओं का नाम "व्हेलर" इसलिए रखा गया है क्योंकि प्राचीन समय में उनका उपयोग समुद्र में व्हेल पकड़ने के लिए किया जाता था। रेगाटा को कमांड का सिग्नेचर इवेंट माना जाता है, जिसकी आवश्यकता शारीरिक और मानसिक फिटनेस के साथ-साथ क्षमता, टीम वर्क, समन्वय और लगातार कड़ी मेहनत और अभ्यास के उच्चतम मानकों के लिए होती है। 'रेगाटा कॉक’ जीतने के लिए समग्र रूप से पहला स्थान प्राप्त करना दल के लिए बहुत गर्व और सम्मान की बात होती है।

  • https://indiannavy.nic.in/
  • https://indiannavy.nic.in/
  • https://indiannavy.nic.in/
  • https://indiannavy.nic.in/
  • https://indiannavy.nic.in/
Back to Top